https://www.fapjunk.com https://pornohit.net london escort london escorts buy instagram followers buy tiktok followers
Wednesday, February 21, 2024
Mandi/ Palampur/ Dharamshala*मेयर साहब सोलर की जगह विधुतीकृत स्ट्रीट लाईटें लगाने का तो स्वागत...

*मेयर साहब सोलर की जगह विधुतीकृत स्ट्रीट लाईटें लगाने का तो स्वागत है लेकिन थोडे समय के भीतर ही खराब पड़ी अर्थात जग नहीं रही सोलर लाईटों के प्रति किसी की कोई जवाब देही नहीं :- प्रवीन कुमार पूर्व विधायक-

Must read

1 Tct

मेयर साहब सोलर की जगह विधुतीकृत स्ट्रीट लाईटें लगाने का तो स्वागत है लेकिन थोडे समय के भीतर ही खराब पड़ी अर्थात जग नहीं रही सोलर लाईटों के प्रति किसी की कोई जवाब देही नहीं :- प्रवीन कुमार पूर्व विधायक…….

Tct chief editor

यह प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए पालमपुर के पूर्व विधायक प्रवीन कुमार ने कहा कि नगर निगम पालमपुर के नव निर्वाचित मेयर जी की अध्यक्षता में हुई पहली बैठक में निर्णय लिया गया कि अव सोलर की जगह विधुतकृत लाईटें लगाई जाएगीं । इस पर पूर्व विधायक ने मेयर साहिब का ध्यान इस ओर आकर्षित करते हुए कहा कि जरा रात के अंधेरे में नगर निगम के प्रवेश द्वार चिम्बलहार से लेकर केबल अपने वार्ड तक का मुआयना करें कि कितनी सोलर लाईटें जगती हैं ओर कितनी नहीं अर्थात खराब पडी है। पूर्व विधायक ने कहा कि थोड़े समय के भीतर ही इन कई सोलर लाईटों के न जगने के विषय को उन्होंने बडी प्रमुखता के साथ सम्बधित विभाग के अधिकारियों के ध्यानार्थ लाया था लेकिन लगता है कि आपसी मिली भगत के चलते आज दिन तक किसी प्रकार की कोई कार्यवाही अमल में नहीं लाई गई । इस सन्दर्भ में पूर्व विधायक ने विधुतकृत लाईटें लगाने से पहले नगर निगम पालमपुर जनता को स्पष्टीकरण दे कि जो लगाई गई सोलर लाईटें अल्प अवधि के भीतर ही ख़राब हो गई या नहीं जग रही है ऐसे में इन सोलर लाईटें लगाने वाली एन्जैसी के विरुद्ध क्या जवाब देही सुनिश्चित करते हुए कार्यवाही अमल में लाई गई है।

More articles

1 COMMENT

  1. प्रवीण जी ! आपने समय निकाल कर बहुत अच्छी पोस्ट डाली है , आज के समय में बिजली के बगैर समय काटना वो भी सालों तक , एक बजुर्ग , अकेली और बीमार महिला के लिए कितना दुखदाई है या रहा होगा, ये तो ये दुखिया ही जानती है या आपने जाकर देखा और हम सबको भी दिखाया , प्रवीण जी ! खैर आपने ठाना है तो गरीब की कुटिया में उजाला हो ही जायेगा , अब एक सवाल तो विभाग के अधिकारियों पर भी बनता है कि इस परिवार का बिल 65 हजार कैसे बना या कैसे बनने दिया और मान लो कि बन ही गया तो ये भी पता कि इससे अब ये बिल आने बाला नहीं है तो क्या ये लाचार महिला सारी उम्र अंधेरे में ही काट दे , चलो ये तो मेरी सोच है विभाग के पास डिफाल्टर को दोबारा से कनेक्शन देने में अपनी सीमाएं और शर्ते होंगी फिर भी एक मजबूर की मजबूरी का हल भी तो जरूरी है , एक तरफ सरकार गरीबों को बहुत सारी सहूलियतें देने की बात करती है, बैंक ऋण माफ हो जाते हैं तो इस मजबूर अकेली महिला ने ऐसा क्या गुनाह कर दिया ? Dr lekh raj

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article