https://www.fapjunk.com https://pornohit.net london escort london escorts buy instagram followers buy tiktok followers
Wednesday, February 21, 2024
Himachalजनआवाजmobile tower a big health hazard:-*मोबाइल टावरों की विकिरणों से मनुष्य के...

mobile tower a big health hazard:-*मोबाइल टावरों की विकिरणों से मनुष्य के स्वास्थ्य पर पड़ रहा है विपरीत प्रभाव* :-*आई एम ए पालमपुर*

Must read

1 Tct

mobile tower a health hazard:-*मोबाइल टावरों की  विकिरणों से मनुष्य के स्वास्थ्य पर पड़ रहा है विपरीत प्रभाव :-आई एम ए पालमपुर*

Tct chief editor

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) की पिछले दिनों  यहां हुई बैठक में कई चिकित्सा विशेषज्ञों  ने भाग दिया अन्य विषयों के अलावा विशेष मोबाइल टावर के बारे में भी बात की विशेषज्ञ ने माना कि मोबाइल टावर की वजह से मानव स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है उनका  मानना ​​है कि मोबाइल टावरों से निकलने वाली इलेक्ट्रो-मैग्नेट आईसी रेडिएशन (ईएमआर) एक बड़ा स्वास्थ्य खतरा है। उनका कहना है कि जितनेप अधिक एंटेना होंगे, आसपास के इलाकों में विकिरण की तीव्रता उतनी ही अधिक होगी। टावर के पास सिग्नल की तीव्रता अधिक होती है और दूर जाने पर यह कम हो जाती है।

पालमपुर की आवासीय कॉलोनियों में से एक में, जहां कुछ साल पहले एक इमारत की छत पर एक मोबाइल टावर स्थापित किया गया था, आसपास के 20 घरों में से छह प्रलेखित कैंसर रोगियों का पता चला है। 0 वे मस्तिष्क कैंसर, अग्न्याशय के कार्सिनोमा, स्तन कैंसर, मूत्राशय के कार्सिनोमा और हॉजकिन के लिंफोमा से पीड़ित हैं। सभी का अलग-अलग अस्पतालों में इलाज चल रहा है।

इसके अलावा छह लोग हृदय रोग से भी पीड़ित हैं। पीड़ितों ने बताया कि मोबाइल टावर लगने के बाद ही इस बीमारी ने उन्हें प्रभावित किया। एक ही परिवार में तीन लोग कैंसर से पीड़ित थे, जबकि एक की पहले ही मौत हो चुकी थी। लेकवाइज, एक अन्य परिवार में, दो बेटों में ऑटोइम्यून बीमारी के साथ गंभीर गठिया का निदान किया गया है। उन्होंने किसी विश्वसनीय एजेंसी से जांच कराने की मांग की है.
स्थानीय अस्पताल में काम करने वाले एक वरिष्ठ चिकित्सक और सलाहकार कहते हैं, “विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने भी पुष्टि की है कि ये विकिरण मानव शरीर पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं और लंबे समय तक इनके संपर्क में रहने पर कैंसर का कारण बन सकते हैं।

भारत में रेडिएशन के मानक अंतरराष्ट्रीय मानकों से दस गुना ज़्यादा सख़्त हैं। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर रेडिएशन की सीमा 4.5 वॉट प्रति वर्ग मीटर से लेकर 9 वॉट प्रति वर्ग मीटर है। जबकि भारत में यह 0.45 से 0.9 वॉट प्रति वर्ग मीटर है।

किस एरिया में नुकसान सबसे ज्यादा:

विशेषज्ञ की मानें तो मोबाइल टावर के तीन सौ मीटर एरिया में सबसे ज्यादा रेडिएशन टावर से निकलता है। टावर में लगे एंटीना के सामने वाले हिस्से में सबसे ज्यादा तरंगें निकलती हैं। टावर के एक मीटर के एरिया में सौ गुना ज्यादा रेडिएशन होता है। टावर पर जितने ज्यादा एंटीना लगे होंगे रेडिएशन भी उतना ज्यादा निकलेगा। इससे नुकसान भी आसपास के लोगों को होगा।

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article